किसानों पर जुल्म से भडकी भाकियू,CPIM के साथ धरना प्रदर्शन कर राष्ट्रपति को भेजा ज्ञापन - www.martandprabhat.com
मार्तण्ड प्रभात न्यूज में आपका स्वागत है। अपना विज्ञापन/खबर प्रकाशित करवाने के लिए वाट्सएप करे - 7905339290। आवश्यकता है जिला वा ब्लॉक स्तर पर संवाददाता की संपर्क करें -9415477964

किसानों पर जुल्म से भडकी भाकियू,CPIM के साथ धरना प्रदर्शन कर राष्ट्रपति को भेजा ज्ञापन

बस्ती :-  हक मांग रहे किसानों पर हो रहे जुल्म, अत्याचार, आंसू गैस के गोले, पानी की बौछार किये जाने के विरोध में राष्ट्रीय नेतृत्व के आवाहन पर भारतीय किसान पदाधिकारियों, कार्यकर्ताओं एवं किसान सभा के पदाधिकारियों ने शुक्रवार को कारगिल स्तम्भ लखनऊ- गोरखपुर मार्ग एनएच पर धरना प्रदर्शन कर राष्ट्रपति को सम्बोधित 7 सूत्रीय ज्ञापन जिलाधिकारी के प्रतिनिधि उप जिलाधिकारी को सौंपा। मांग किया कि किसान विरोधी तीनों विधिक कानूनों को वापस लिया जाय।

सीटू कार्यालय से हरी टोपी पहने हाथो में लाठियां लिए भाकियू व लाल झंडे से लैस किसान सभा के दर्ज़नो नेता ,पदाधिकारी व कार्यकर्ता केंद्र व प्रदेशो की भजपा सरकार की मजदूर व किसान विरोधी नीतिओ के खिलाफ नारा लगाते हुए न्यायमार्ग ,दीवानी कचहरी ,पुराना डाक कहना होते हुए राष्ट्रीय राजमार्ग पर चढ़ गए और अमहट पुल होते हुए कारगिल स्तंभ स्थल पर पहुंच गए और धरना शुरू कर दिया।

धरना स्थल पर हुई सभा को दीवान चंद्र,कामरेड के के तिवारी ,शोभा राम ठाकुर, कामरेड अशरफी लाल , जयराम चौधरी, परमात्मा प्रसाद चौधरी,नवनीत यादव ,वंदना चौधरी,मुन्नी देवी, हृदय राम वर्मा ,शिव मूरत ,राम चन्द्र सिंह ,दीनानाथ ,गंगा राम सोनकर ने संबोधित किया।

धरने को भाकियू जिलाध्यक्ष जयराम चौधरी, दीवान चन्द पटेल, शोभाराम ठाकुर, रामनवल किसान, डा. आर.पी. चौधरी, का. अशर्फीलाल, का. के.के. तिवारी आदि ने सम्बोधित करते हुये कहा कि केन्द्र और प्रदेश की भाजपा सरकार किसानों से संवाद बनाने की जगह कार्पोरेट के गोद में खेल रही है।

राष्ट्रपति को भेजे 7 सूत्रीय ज्ञापन में किसान विरोधी तीनों विधिक कानूनों को वापस लिये जाने, किसानों के फसल की खरीद के लिये स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट के आधार पर सी-2 फार्मूले के अनुरूप न्यूनतम समर्थन मूल्य घोषित किये जाने, किसानों के फसल की सीधी खरीद सुनिश्चित करते हुये एम.एस.पी. से कम दाम पर खरीद को संज्ञेय अपराध घोषित किये जाने, किसानों के बिजली समेत सभी प्रकार के कर्जो को माफ किये जाने, कृषि के काम आने वाले सभी वस्तुओं को जीएसटी से मुक्त कराये जाने, धान के फसल को हल्दिया (कुण्ठा) रोग को प्राकृतिक आपदा मानते हुये क्षतिपूर्ति दिये जाने, गन्ना मूल्य के बकाये का व्याज सहित भुगतान कर पेराई सत्र में गन्ना मूल्य 450 कुन्तल किये जाने आदि की मांग शामिल है।

धरने में दीवान चंद्र,कामरेड के के तिवारी ,शोभा राम ठाकुर, कामरेड अशरफी लाल , जयराम चौधरी, परमात्मा प्रसाद चौधरी,नवनीत यादव ,वंदना चौधरी,मुन्नी देवी, हृदय राम वर्मा ,शिव मूरत ,राम चन्द्र सिंह ,दीनानाथ ,गंगा राम सोनकरप,परमात्मा प्रसाद चौधरी, हृदयराम वर्मा, शिवमूरत, रामचन्दर सिंह, पारसनाथ गुप्ता, अविनाश श्रीवास्तव, राम मनोहर चौधरी, हरि प्रसाद, रामकृष्ण, गौरीशंकर, राजेन्द्र प्रसाद, फूलचन्द, राम सूरत, दीनानाथ, गंगाराम सोनकर, नवनीत यादव, वंदना चौधरी के साथ ही अनेक लोग शामिल रहे।

error: Content is protected !!
×