1 जुलाई से लागू हो जायेगी बीएनएसएस और बीएसए - www.martandprabhat.com
मार्तण्ड प्रभात न्यूज में आपका स्वागत है। अपना विज्ञापन/खबर प्रकाशित करवाने के लिए वाट्सएप करे - 7905339290। आवश्यकता है जिला वा ब्लॉक स्तर पर संवाददाता की संपर्क करें -9415477964

1 जुलाई से लागू हो जायेगी बीएनएसएस और बीएसए

दिल्ली । देश में अंग्रेजों के जमाने से बने कानून आगामी एक जुलाई से बदल जाएंगे। नए कानून में कई धाराओं में बदलाव होगा तो नए कानून में काफी कुछ परिवर्तन आगामी एक जुलाई से देखने में आएगा। एक जुलाई से देश में तीनों अधिनियमों में बदलाव होने जा रहा है।

1861 से जो भारतीय दण्ड संहिता यानी आईपीसी थी उसके स्थान पर अब भारतीय न्याय संहिता यानी बीएनएस होगी। इसी प्रकार 1973 से लागू क्रिमनल प्रोसेस कोर्ट यानी सीआरपीसी के स्थान पर अब भारतीय नागरिक सुरक्षा संहिता यानी बीएनएसएस होगी।

इसी प्रकार 1872 से लागू इंडियन एवीडेंस एक्ट के स्थान पर भारतीय साक्ष्य अधिनियम यानी बीएसए होगी। उनका कहना है कि नए अधिनियमों में दण्ड की जगह न्याय प्रक्रिया को प्राथमिकता दी गई है।

बताया गया कि जहां आईपीसी में 511 धारायें होती थीं, अब नए अधिनियम में 358 धारायें होंगी। इसी प्रकार सीआरपीसी में 484 धारायें होती थीं अब बढक़र 531 धारायें होंगी। भारतीय साक्ष्य अधिनियम में 167 की जगह अब 170 धारायें होंगी।

बताया गया कि नए अधिनियम में समन तामिल ऑन लाईन कराये जाएंगे। पेशी भी ऑन लाईन हो सकेंगी। समय सीमा में निर्णय होंगे। तथा फरारी आरोपी के फरार रहने पर भी सुनवाई हो सकेगी। वहीं हत्या, बलात्कार, धोखाधड़ी जैसी धाराओं में परिवर्तन किया गया है।

अब हत्या के मामले में धारा 302 की जगह धारा 103 लागू होगी। बलात्कार के मामले में 376 की जगह अब धारा 64 लागू होगी। धोखाधड़ी के मामले में 420 की जगह अब धारा 318 लागू होगी। इसी प्रकार अन्य धाराओं में भी परिवर्तन किया गया है। वहीं महिला संबंधी अपराधों को प्राथमिकता पर रखा गया है।

error: Content is protected !!
×