कम्युनिस्ट पार्टी ने किसान आंदोलन के समर्थन में फूका कारपोरेट का पुतला - www.martandprabhat.com
मार्तण्ड प्रभात न्यूज में आपका स्वागत है। अपना विज्ञापन/खबर प्रकाशित करवाने के लिए वाट्सएप करे - 7905339290। आवश्यकता है जिला वा ब्लॉक स्तर पर संवाददाता की संपर्क करें -9415477964

कम्युनिस्ट पार्टी ने किसान आंदोलन के समर्थन में फूका कारपोरेट का पुतला

बस्ती :-  बाम दलों के राष्ट्रीय एवं प्रान्तीय नेतृत्व के आवाहन पर किसान आन्दोलन के समर्थन में नेताओं, पदाधिकारियों ने शनिवार को उप जिलाधिकारी कार्यालय के समक्ष प्रदर्शन पर अडानी, अम्बानी का पुतला फूंककर विरोध प्रदर्शन किया।

केन्द्र की भाजपा सरकार केंद्र सरकार की हठवादिता के विरोध में कम्युनिस्ट नेताओ ,पदाधिकारियो ,कार्यकर्ताओ ने सीटू कार्यालय से जुलूस निकाल कर कचहरी प्रांगण स्थित पोस्ट आफिस के समक्ष प्रदर्शन करते हुए अडानी ,अम्बानी का पुतला फूंका।

केंद्र की भाजपा सरकार हठवादिता करते हुए किसान आंदोलन को दबाने का प्रयास कर रही है,संवेदन हीन सरकार कारपोरेट के पक्ष में काम कर रही है।

आरोप लगाते हुए मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के नेता व पूर्व जिला सचिव कामरेड के के तिवारी ने कहा कि किसान विरोधी तीनो विधयकों को तत्काल वापस लेते हुये ,एमएसपी पर खरीद की गारंटी के साथ ही सभी प्रकार के बिजली बकाए को माफ करने सहित अन्य मांगो से पूर्ण सहमति जताते हुए केंद्र सरकार को तत्काल मांगो को पूरा करने को कहा।

बिल को किसान, मजदूर विरोधी बताते हुये भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी जिला सचिव का. अशर्फी लाल ने कहा कि ठंड में देश का किसान अपनी मांगों को लेकर आन्दोलित है किन्तु संवेदनहीन सरकार पूंजीपतियों के दबाव में किसान हितों का गला घोंट देना चाहती है।

कम्युनिस्ट पार्टी के जिला सचिव का. रामगढी चौधरी, सी.पी.आई.एम.एल. संयोजक रामलौट, का. वीरेन्द्र मिश्र, सचिव अशर्फीलाल आदि ने एक स्वर से मांग किया कि किसान विरोधी तीन काले कानूनों को तत्काल प्रभाव से वापस लिया जाय। कहा कि सरकार किसानों, नौजवानों, बेरोजगारों का दमन बन्द करे और उनकी आवाजों को सुनने के साथ ही समस्याओं का हल शीघ्र ढूढा जाय।

धरना प्रदर्शन और अडानी, अम्बानी का पुतला फूंकने वालों में किसान नेता गंगाराम सोनकर, राम सुरेमन, शिवचरन निषाद, वंदना चौधरी, कृष्ण मुरारी यादव, प्रेमचन्द्र चौधरी, राजनरायन मिश्र, श्याम मनोहर जायसवाल, अभय कुमार, जावेद अहमद, नरसिंह भारद्वाज, शेषमणि, भगनवादीन, रामराज, रामधीरज चौधरी, रमन कुमार, जगदीश, सियाराम सोनकर, गौरीशंकर, अजय कुमार, सियाराम सोनकर, मुन्नी देवी, राम अजोर, प्रमोद, राम सूरत, महेन्द्र कुमार चौधरी, राम गोपाल चौधरी आदि शामिल रहे।

error: Content is protected !!
×