किसान आंदोलन को और तेज करेगी भाकियू - www.martandprabhat.com
मार्तण्ड प्रभात न्यूज में आपका स्वागत है। अपना विज्ञापन/खबर प्रकाशित करवाने के लिए वाट्सएप करे - 7905339290। आवश्यकता है जिला वा ब्लॉक स्तर पर संवाददाता की संपर्क करें -9415477964

किसान आंदोलन को और तेज करेगी भाकियू

बस्ती :-(मार्तण्ड प्रभात) भारतीय किसान यूनियन के पूर्व राष्ट्रीय उपाध्यक्ष दीवान चन्द्र चौधरी को प्रथम पुण्य तिथि पर 6 मार्च शनिवार को समाधि स्थल मुण्डेरवा के निकट स्थित पिपराकला गांव में याद किया गया। बस्ती मण्डल सहित पूर्वान्चल के विभिन्न जनपदों से आये भाकियू पदाधिकारियों, किसानों, मजदूरों ने नम आंखों से दीवान चन्द्र चौधरी को श्रद्धासुमन अर्पित किया।

वक्ताओं ने कहा कि यदि आज वे जीवित होते तो पूर्वान्चल में किसान आन्दोलन की स्थिति दूसरी होती। किसान आन्दोलन के 100 दिन पूरे हो चुके हैं, 250 से अधिक किसान शहीद हो चुके हैं किन्तु केन्द्र की सरकार तीन कृषि कानूनों को वापस लेने, न्यूनतम समर्थन मूल्य पर कानून बनाने के सवाल पर हठवादिता पर अड़ी हुई है। उपस्थित लोगों ने किसान आन्दोलन में शहीद हुये 250 किसानों को भी श्रद्धा सुमन अर्पित किया।

भाकियू मण्डल अध्यक्ष सुभाष चन्द्र किसान ने कहा कि दीवान चन्द्र चौधरी देश के बड़े किसान नेता थे, उनकी अगुवाई में मुण्डेरवा किसान आन्दोलन के साथ ही अनेक बड़े आन्दोलन हुये जिसमें किसानों, मजदूरों को उनका हक मिला। असमय नियति ने उन्हें हमसे छीन लिया। उनकी प्रेरणा सदैव हमारा सम्बल रहेगी।

पूर्व राष्ट्रीय उपाध्यक्ष दीवान चन्द्र चौधरी के पुत्र एवं भाकियू मण्डल संरक्षक अनूप चौधरी ने कहा कि उनका प्रयास होगा कि पिता के पद चिन्हों पर किसान आन्दोलन को मजबूत बनाया जाय।

भाकियू मण्डल उपाध्यक्ष दिवान चन्द पटेल, शोभाराम ठाकुर, मार्तेन्दु प्रताप, राम मनोहर, राम नवल किसान, जयराम चौधरी, जर्नादन मिश्रा, प्रदीप पाण्डेय, राम चन्द्र चौधरी, घनश्याम, रामफेर, हरि प्रसाद, सत्यराम, रमेश चन्द्र, राजेन्द्र प्रसाद, दूधनाथ, मुन्नू चौधरी, डा. आर.पी. चौधरी, ब्रम्हादीन, पंचराम, गनीराम, कन्हैया प्रसाद किसान के साथ ही हजारों की संख्या में उपस्थित किसानों, मजदूरों ने पूर्व राष्ट्रीय उपाध्यक्ष दीवान चन्द्र चौधरी और महात्मा टिकैत के चित्र पर माल्यार्पण कर उन्हें श्रद्धा सुमन अर्पित किया। कहा कि उनके बताये रास्तों पर चलकर किसान, मजदूर अपने हक हकूक का संघर्ष जारी रखेंगे।

error: Content is protected !!
×