आज तक किसी अधिकारी की हिम्मत नही हुई डिग्री और कागज देखने की - डॉ एम ए खान - www.martandprabhat.com
मार्तण्ड प्रभात न्यूज में आपका स्वागत है। अपना विज्ञापन/खबर प्रकाशित करवाने के लिए वाट्सएप करे - 7905339290। आवश्यकता है जिला वा ब्लॉक स्तर पर संवाददाता की संपर्क करें -9415477964

आज तक किसी अधिकारी की हिम्मत नही हुई डिग्री और कागज देखने की – डॉ एम ए खान

संतकबीरनगर । जनपद संतकबीरनगर मे बाघनगर और सेमरियांवां मे स्वास्थ्य सेवाओं का हाल देखने लायक है। अवैध मडिकल स्टोर, क्लीनिक तथा प्राईवेट अस्पतालों और फर्जी डॉक्टर के लिए यह क्षेत्र किसी जन्नत से कम नहीं है। ऐसा नही है कि जिम्मेदारों को इसकी जानकारी नही है। जानकारी सब है लेकिन कार्यवाही की या तो हिम्मत नही है या फिर निजी लाभ कार्यवाही से रोकता है।

आप कौन है साहब तो अभी देख कर गए है वो तो कुछ नही बोले

बाघनगर से लेकर सेमरियांवां तक कदम कदम पर मेडिकल स्टोर खुले हुए हैं जिसकी संख्या सैकडों मे है और बिना किसी वैघ पत्र के केवल घूस के बल पर संचालित हो रहा है। यहां अधिकतर मेउिकल स्टोरों पर नाबालिगों को दवा बेंचते हुए देखा गया है। पूछने पर दुकानदार बताते हैं कि लाइसेन्स के लिए आवेदन कर चुके हैं लेकिन अभी लाइसेन्स मिला नही है। फिर भी मेडिकल स्टोर साहब की कृपा से चल रहा है। दुकानदार बताते है की साहब तो कभी कुछ नही बोले।

अनाधिकृत नर्सिंग होमों निजी अस्पतालों की भरमार

यदि इस क्षेत्र के नर्सिंग होमों निजी अस्पतालों की की बात की जाय तो 95 प्रतिशत नर्सिंग होमों निजी अस्पतालों के पास कोई वैघ लाइसेन्स नही है। भारत कनेक्ट टीम के औचक कवरेज मे हैरान कर देने वाले तथ्य प्रकाश मे आये। बाघनगर मे संचालित हो रहे आयत हास्पिटल है । इसके संचालक कथित डा0 मु0 शरीफ हैं। डॉक्टर साहब की डिग्री orm है। यहां पोस्टर पर आधा दर्जन से अधिक डाक्टर प्रदर्शित किये गये हैं लेकिन लता पता किसी का नही है। हा एक महिला कुरान पड़ती जरूर मिली।

बाघनगर मे संचालित स्टार हेल्थ सेण्टर जिसके संचालक कथित डाक्टर एम0एम0 खान हैं। यह क्लीनिक पिछले कई वर्षें से संचालित है। कथित डाक्टर एम0एम0 खान कहते हैं कि आज तक किसी अधिकारी की हिम्मत हुई जो हमसे आकर पूछे कि हम क्लीनिक कैसे चला रहे हैं। 

यह कहना गलत न होगा कि बाघनगर एवं सेमरियावा क्षेत्र स्वास्थ्य के मामले मे अपराध का गढ बन चुका है जिसकी तिलिस्मि तोडना आला अफसरों के बस की बात नही हैं। क्षेत्र के कुछ प्रतिष्ठितजनों ने बताया कि झोला छापों के इलाज से आये दिन कोई न कोई घटनाऐं घटित होती रहती है। बताते हैं कि एसीएमओ की गाडी आती रहती है और साहब लोगों से मिलकर चले जाते हैं। ऐसे नाजायज कामों मे जब साहब ही संलिप्त हैं तो फिर कार्रवाई करेगा कौन।

इस सम्बन्ध मे डीएलए के0जी0 गुप्ता ने कहा कि अभियान चलाकर अवैध मेडिकल स्टोरों के संचालकों के विरूद्व कडी कार्रवाई करायी जायेगी।

मुख्य चिकित्साधिकारी संतकबीरनगर डा0 अनिरूद्व सिंह ने कहा कि यदि बिना लाईसेन्स के निजी अस्पताल संचालित किये जा रहे हैं तो उन्हें चिन्हित कराकर कठोर कार्यवाही की जायेगी।

error: Content is protected !!
×